Digital Signature क्या है? कैसे काम करता है

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने वाले है Digital Signature in hindi के बारे में क्या आप जानते है की Digital Signature क्या होता है और Digital Signature कैसे काम करता है. दोस्तों ये तो आप सभी जानते है की Signature को हिंदी में  हस्ताक्षर बोलते है जिनका इस्तेमाल  किसी भी व्यक्ति के पहचान की निशानी होती है. बैंक में या किसी सरकारी या गैर सरकारी काम में अपनी सहमती को जाहिर करने के लिए उसमे हस्ताक्षर करते है. इसी प्रकार जब online या किसी डिजिटल तरीके से अपनी सहमती देने के लिए इसका का उपयोग किया जाता है. जिसका प्रयोग सिर्फ वही इंसान कर सकता है जिसके Physically Digital Signature से match करता है. इसलिए अपनी पहचान के signature को strong बनाने के लिए Digital Signature का इस्तेमाल किया जाता है.

Digital Signature क्या है

                                                         Digital Signature क्या है

Digital Signature का इस्तेमाल बहुत स्ट्रोंग होता है इसमे cryptography technology का स्तेमाल किया जाता है जिससे information और भी secure हो जाती है. यह एक गणितीय तकनीकी के आधार पर काम करता है जिससे यह आसने है पता लग जाता है की बेजी गयी जानकारी messages, information कितनी Genuine सही है या नही. Digital Signature हाथ के द्वारा किये गये signature से ज्यादा strong और प्रभावशाली होता है. तो चलिए अब जानते है की Digital Signature कैसे बनाये.

 

Digital Signature क्या है – Digital Signature in Hindi

यह एक बहुत ही secure और जटिल टेक्नोलॉजी है जिसके जरिये हम कसी भी document, Messages, information की सच्चाई जान सकते है. हम जान सकते है की इनफार्मेशन बेजने वाला कोण है और और मिलने वाली information सही है या नही. इससे पटाया लगाया जा सकता है की प्राप्त जानकारी में किसी ने कोई छेड़छाड़ तो नही की है. Digital Signature में Cryptography टेक्नोलॉजी इस्तेमाल होती है जिसमें  दो प्रकार की Key use की जाती है पहली public key होती है जिसमे बेजी गयी janakri encypt हो जाती है और उस जानकरी को पड़ने के लिए secret key होती है जो सिर्फ प्राइवेट होती है.

Digital Signature का उपयोग बहुत साड़ी online place पर किया जाता है जिससे information sender and receiver की जानकारी गुप्त रखी जाती है और उस जानकारी की पूरी तरह जाच करके पहचान की जाती है की send की गयी jankari कितनी सही है कही उसके साथ छेड़छाड़ तो नही की  गयी सब identify होने के बाद जानकारी approve की जाती है. Digital Signature का use E-commerce websites, Online बैंकिंग, software Distribution, online transation में user की जानकारी को गुप्त बनाये रखने के लिए भी किया जाता है जिससे user की जानकारी ऑनलाइन leak ना हो.

Digital Signature कैसे बनाये –

डिजिटल सिग्नेचर यानि की electronic सिग्नेचर बनाए के लिए कई साड़ी ऑनलाइन प्रक्रिया होती है जिन्हें फॉलो करके आप अपना खुद का सिग्नेचेर बना सकते है जिसका इस्तेमाल ऑनलाइन Data की सुरक्षा और जानकारी को वेरीफाई करने के लिए कर सकते है.

Digital Signature कैसे बनाना है उसकी जानकारी आप यहाँ से पड़ सकते है

यहा से आप पूरा process देख सकते है और अपना खुद का सिग्नेचर बना सकते है.

conclusion –

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी जिसमे हमने आपको बताया की Digital Signature  क्या है? और यह कैसे काम करता है मुझे आशा है की आपको ये जानकारी बहुटी ही अच्छे से समाज आ गयी होगी अगर आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *